राष्ट्रीय (28/08/2019) 
केजरीवाल ने स्वीकार किया कि तीनों नगर निगम बेहतर काम कर रहे हैं - मनोज तिवारी

नई दिल्ली, 28 अगस्त।   दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने अपनी सरकार की पीठ थपथपाते हुये ट्विट कर कहा कि चार साल में दिल्ली में डेंगू और चिकनगुनिया 80 प्रतिशत कम हुआ है। इस पूरे मामले पर प्रतिक्रिया देते हुये भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने यह स्वंय मान लिया है कि दिल्ली में डेंगू और चिकनगुनिया का एक भी मामला सामने नहीं आया है। स्पष्ट है तीनों एमसीडी बेहतर काम कर रही है। नालों की सफाई, जगह जगह जलभराव को रोकना और घरों में डेंगू और चिकनगुनिया फैलने से रोकने के लिए एमसीडी का जन जागरण अभियान व जमीन पर की गई मेहनत सफल हुई है। डेंगू के मरीजों की संख्या साल दर साल घटने लगी है। 

   
 तिवारी ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार जब से सत्ता में आई है तब से उन्होनें एमसीडी के फंड को जानबूझ कर रोक दिया है। फंड की कमी झेल रहा निगम अपने कर्मठ कर्मचारियों को वेतन देने में भी कई बार असमर्थ होना पड़ा, लेकिन केन्द्र सरकार व दिल्ली के सभी सांसदो की सहायता से निगम के लिए अतिरिक्त फंड की व्यवस्था की गई। दिल्ली सरकार द्वारा लगाई गई तमाम अड़चनों के बावजूद आज जब स्वंय मुख्यमंत्री तीनों एमसीडी के बेहतर काम की सराहना कर रहे हैं तो आज सबसे पहले मुख्यमंत्री को तीनों एमसीडी के बकाया फंड को रिलीज कर देना चाहिए जिससे निगम और बेहतर काम कर सके।

     तिवारी ने कहा कि डेंगू और चिकनगुनिया जैसी भंयकर बिमारी जानलेवा है जिनके कारण दिल्ली के कई लोग काल के गाल में समा चुके हैं। ऐसी भंयकर बीमारी को रोकना स्थानीय सभी लोगों की भी जिम्मेदारी है। स्थानीय सहभागित और निगम के अभियान के कारण आज दिल्ली में डेंगू व चिकनगूनिया के मामले घट रहे हैं। भाजपा शासित निगम बेहतर काम कर रहे हैं और दिल्ली की सेवा में हम निरंतर काम करते रहेगें, लेकिन दिल्ली सरकार का सहयोग निगम को नहीं मिलता है जिसके कारण आम जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। व्यक्तिगत व राजनीतिक स्वार्थ से प्रेरित होकर आम आदमी पार्टी की सरकार ने निगम के काम करने की नीतियों का हमेशा विरोध करते हुये जनता के हितों को नकारते हुये सदैव काम रोकने का प्रयास किया है, लेकिन दिल्ली नगर निगम ने सदैव जनात की सेवा के लिए तत्परता से काम किया। हालांकि में केजरीवाल सरकार के स्वास्थय विभाग ने टीजर कैंपन चलाकर डेंगू व चिकनगुनिया जैसी बीमारियों के निस्तारण के लिए करोड़ो रूपये विज्ञापन में खर्च किये। इस राशि को सरकार यदि डेंगू के रोकथाम व अस्पताल में व्यवस्थाओं के लिए खर्च करती तो ज्यादा बेहतर होता।

 

Copyright @ 2019.