राष्ट्रीय (11/01/2020) 
प्रदेश भाजपा कार्यालय में आज धार्मिक सांस्कृतिक सम्मेलन का आयोजन किया गया

नई दिल्ली, 11 जनवरी।  प्रदेश भाजपा कार्यालय में आज धार्मिक सांस्कृतिक सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व दिल्ली प्रभारी  श्याम जाजू ने संबोधित किया। इस सम्मेलन की अध्यक्षता राष्ट्रीय मंत्री व धार्मिक सांस्कृतिक विभाग के संयोजक  महेश गिरी ने की। धार्मिक सांस्कृतिक सम्मेलन में  जय भगवान गोयल द्वारा लिखित पुस्तक आज के शिवाजीका विमोचन भी किया गया। इस कार्यक्रम में पहाड़गंज आरामबाग संस्थापक महामंडलेश्वर स्वामी  राघवानन्द जी महाराज, राष्ट्रीय विद्धवत् परिषद संस्थापक महापंडित चक्रमणी मिश्रा जी,  रामदास मिशन युनिवर्सल सोसायटी के राष्ट्रीय महासचिव  शक्ति शांतानन्द महर्षि, डॉ राधाकांत वत्स, परमशक्ति पीठ के कार्यकारी अध्यक्ष  नन्द किशोर अग्रवाल व धार्मिक सांस्कृतिक विभाग के सह-संयोजक  जय भगवान अग्रवाल,  जय भगवान गोयल,  जय कुमार अन्ना,  रूपक अग्रवाल, मती राधिका सहित हजारों की संख्या में संत समाज के लोग उपस्थित थे।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व दिल्ली प्रभारी  श्याम जाजू ने कहा कि सम्मेलन में उपस्थित लोगों के चेहरे की चमक और उत्साह बता रहा है कि वो निस्वार्थ ही इस धार्मिक सम्मेलन का हिस्सा बनने आए हैं । स्वामी विवेकानंद का ये देश पूरी दुनिया में उनके त्याग और समर्पण के लिए जाना जाता है और उन्हीं के देश में संत समाज के लोगों को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी सरकार ने मूलभूत सुविधाओं से वंचित रखा। राम मंदिर को लेकर विपक्षी भाजपा सरकार का मजाक उड़ाते थे, कहते थे मंदिर वहीं बनाएंगे, लेकिन तारीख नहीं बताएंगे, लेकिन आज वो हमसे नजरें नहीं मिला पा रहे हैं। केंद्र की मोदी सरकार ने न सिर्फ राम मंदिर बनवाने का द्वार खुलावाया बल्कि कश्मीर पर लगे धारा 370 का भी धब्बा मिटाया। प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश में विकास तेजी से हो रहा है और इसमें संत समाज का अहम योगदान है ।

सम्मेलन को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय मंत्री  महेश गिरी ने कहा कि इस कार्यक्रम में हजारों की संख्या में लोगों ने सम्मिलित होकर ये साबित कर दिया है कि दिल्ली की स्थिति अब बदलाव और सुधार की ओर बढ़ रही है। साधू-संतों को समाज की उतनी ही चिंता होती है । दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद केजरीवाल ने तुष्टिकरण की राजनीति की, समाज के संत वर्ग को हमेशा दरकिनार किया। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की सरकार ने मौलवियों के लिए वेतन का प्रावधान किया लेकिन मंदिर के पुजारी,संतों और गुरुद्वारे के ग्रंथियों को जैस-तैसे अपना जीवन-यापन करने पर मजबूर कर दिया। दिल्ली के मंदिरों में रह रहे पुजारी और संतों ने भी अब संकल्प ले लिया है इस अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने का और भाजपा इसमें उनका साथ देगी। भाजपा के पास नेता है, नेतृत्व है, नीति है और नीयत है इसलिए दिल्ली में असामान्य परिवर्तन लाने के लिए भाजपा तैयार है।

Copyright @ 2019.