दिल्ली, DELHI SPORTS/ खेल राजस्थान, RAJASTHAN उत्तराखण्ड, UTTRAKHAND मध्य प्रदेश MADHYA PRADESH महाराष्ट्र , MAHARASHTRA अंर्तराष्ट्रीय INTERNATIONAL बिजनेस BUSINESS गुजरात GUJRAT नेशनल, NATIONAL छत्तीसगढ CG मनोरंजन ताजा खबर उत्तर प्रदेश UTTAR PRADESH
Breaking News
प्रतिभा का पर्याय नहीं है अंग्रेजी: जोशी   |  नव श्री धार्मिक लीला कमिटी इस बार अपने माध्यम से, लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित करेगी   |  29-30 सितंबर को होगा चौथी राष्ट्रीय युवा पुलिस अधीक्षक सम्मेलन और पुलिस एक्सपो – 2022    |  एक चांसलर , पांच वाईस चांसलर , एक न्यायाधीश , एक डीन सहित 16 संस्थागत पुरस्कार एवं 8 व्यक्तिगत पुरस्कार विजेताओं ने ग्रहण किया मदरलैंड एचीवर अवार्ड   |  रिलीज़ होते ही पॉपुलर हो गया, कृष्णा सैनानी का म्युज़िक वीडियो "यकीन"    |  गैर इरादतन हत्या के दोषी का सात साल की कैद   |  रिलीज़ हुआ फिल्म "लाईफ ईज गुड" का पोस्टर फिल्म फायनान्स के कारोबार में लंबे समय से सक्रिय रहे आनंद शुक्ला ने अब फिल्म निर्माण के क्षेत्र में आगमन करते हुये फ़िल्म "लाईफ ईज गुड" का निर्माण किया है। यह महज फिल्म नहीं पर फ़िल्म इंडस्ट्री में आनंद शुक्ला के लंबे अनुभव का निचोड़ भी है। वे अच्छी तरह से जानते हैं कि, संवेदनशीलता फ़िल्म की सफलता कुंजी है और इसी वजह से उनकी यह फिल्म इमोशन्स से सराबोर बन पड़ी है। सुजीत सेन लिखित कहानी पर बनी इस फ़िल्म के निर्देशक हैं अनंत नारायण महादेवन। फ़िल्म के सह-निर्माता राजेन्द्र सिंघवी और केतन जैन हैं। इसके प्रमुख कलाकार हैं जैकी श्रॉफ, बेबी सना, अनन्या, स्वानंद वर्मा, अंकिता, रजित कपूर, सुनीता सेन गुप्ता, दर्शन जरीवाला और मोहन कपूर। इन कलाकारों को चमकाती इस फ़िल्म का पोस्टर 27 सितंबर को रिलीज किया गया। अपनी फिल्म के रिलीज के कगार पर पहुंचने से खुश आनंद शुक्ला फिल्म के विषय के बारे में कहते हैं कि, यहां कहानी में मानवीय संवेदनाएं पिरोयी गयी हैं। कोरोना महामारी से पूर्व अमूमन हर किसी को जिंदगी से शिकायत थी और शिकायत का सुर यही होता था कि उसकी जिंदगी अभावों से भरी पड़ी है और हर चीज की कमी है। पर इस महामारी के चलते लोगों को एहसास हुआ कि, जिंदगी ने उन्हें काफी कुछ दिया है और उन्हें जिंदगी का अर्थ समझ में आया। ज़िन्दगी के प्रति लोगों के दृष्टिकोण में बदलाव आया है और वे जिंदगी को सकारात्मकता के नज़रिये से देखने लगे। मेरी फिल्म भी जिंदगी की सकारात्मकता से देखने का संदेश लिये हुये है और यह सकारात्मकता फिल्म के शीर्षक से भी छलकती है। फिल्म में निश्छल प्यार की कहानी प्रस्तुत की गयी है और यह दर्शाया गया है कि अकेलेपन की जिंदगी जी रहे एक अधेड़ उम्र के आदमी के परिचय में जब एक मासूम बच्ची आती है तो उनके बीच कैसा लगाव हो जाता है। निस्वार्थ रिश्ते को यहां भावनात्मक अंदाज में प्रस्तुत किया गया है। आज की भागदौड़ वाली जिंदगी में आपसी संबंध पीछे छूटने लगे हैं, ऐसे में यह फिल्म दर्शाती है कि संबंधों में मधुरता हो तो जिंदगी कितनी खुशनुमा बन जाती है। "लाईफ ईज गुड" की प्रमुख शूटिंग महाबलेश्वर की नयनाभिराम वादियों में की गयी है और पहाड़ी लोकेशन की खूबसूरती ने फिल्म में चार चांद लगा दिये हैं। संवेदनशील फिल्में हमेशा से ही दर्शकों की पहली पसंद बनी रही हैं। ऐसे में यह कहना गलत न होगा कि संवेदनशीलता से लबालब यह फ़िल्म जब 9 दिसंबर को प्रदर्शित होगी तब दर्शक इसे शर्तिया हाथों-हाथ लेंगे।   |  दिव्यांग जनों को सहानुभूति नहीं सामान्य व्यवहार चाहिए- डॉक्टर महेश वर्मा   |  दिल्ली कांग्रेस एमसीडी द्वारा बड़े स्तर पर वार्डों के परिसीमन में अनियतित्ताओं के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन करेगी-चौ. अनिल कुमार   |  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय के सिद्धांत के अनुरुप ही कार्य कर रहे हैं-आदेश गुप्ता   |  
ताज़ा खबर
खास खबर
मनोरंजन
रिलीज़ हुआ फिल्म "लाईफ ईज गुड" का पोस्टर फिल्म फायनान्स के कारोबार में लंबे समय से सक्रिय रहे आनंद शुक्ला ने अब फिल्म निर्माण के क्षेत्र में आगमन करते हुये फ़िल्म "लाईफ ईज गुड" का निर्माण किया है। यह महज फिल्म नहीं पर फ़िल्म इंडस्ट्री में आनंद शुक्ला के लंबे अनुभव का निचोड़ भी है। वे अच्छी तरह से जानते हैं कि, संवेदनशीलता फ़िल्म की सफलता कुंजी है और इसी वजह से उनकी यह फिल्म इमोशन्स से सराबोर बन पड़ी है। सुजीत सेन लिखित कहानी पर बनी इस फ़िल्म के निर्देशक हैं अनंत नारायण महादेवन। फ़िल्म के सह-निर्माता राजेन्द्र सिंघवी और केतन जैन हैं। इसके प्रमुख कलाकार हैं जैकी श्रॉफ, बेबी सना, अनन्या, स्वानंद वर्मा, अंकिता, रजित कपूर, सुनीता सेन गुप्ता, दर्शन जरीवाला और मोहन कपूर। इन कलाकारों को चमकाती इस फ़िल्म का पोस्टर 27 सितंबर को रिलीज किया गया। अपनी फिल्म के रिलीज के कगार पर पहुंचने से खुश आनंद शुक्ला फिल्म के विषय के बारे में कहते हैं कि, यहां कहानी में मानवीय संवेदनाएं पिरोयी गयी हैं। कोरोना महामारी से पूर्व अमूमन हर किसी को जिंदगी से शिकायत थी और शिकायत का सुर यही होता था कि उसकी जिंदगी अभावों से भरी पड़ी है और हर चीज की कमी है। पर इस महामारी के चलते लोगों को एहसास हुआ कि, जिंदगी ने उन्हें काफी कुछ दिया है और उन्हें जिंदगी का अर्थ समझ में आया। ज़िन्दगी के प्रति लोगों के दृष्टिकोण में बदलाव आया है और वे जिंदगी को सकारात्मकता के नज़रिये से देखने लगे। मेरी फिल्म भी जिंदगी की सकारात्मकता से देखने का संदेश लिये हुये है और यह सकारात्मकता फिल्म के शीर्षक से भी छलकती है। फिल्म में निश्छल प्यार की कहानी प्रस्तुत की गयी है और यह दर्शाया गया है कि अकेलेपन की जिंदगी जी रहे एक अधेड़ उम्र के आदमी के परिचय में जब एक मासूम बच्ची आती है तो उनके बीच कैसा लगाव हो जाता है। निस्वार्थ रिश्ते को यहां भावनात्मक अंदाज में प्रस्तुत किया गया है। आज की भागदौड़ वाली जिंदगी में आपसी संबंध पीछे छूटने लगे हैं, ऐसे में यह फिल्म दर्शाती है कि संबंधों में मधुरता हो तो जिंदगी कितनी खुशनुमा बन जाती है। "लाईफ ईज गुड" की प्रमुख शूटिंग महाबलेश्वर की नयनाभिराम वादियों में की गयी है और पहाड़ी लोकेशन की खूबसूरती ने फिल्म में चार चांद लगा दिये हैं। संवेदनशील फिल्में हमेशा से ही दर्शकों की पहली पसंद बनी रही हैं। ऐसे में यह कहना गलत न होगा कि संवेदनशीलता से लबालब यह फ़िल्म जब 9 दिसंबर को प्रदर्शित होगी तब दर्शक इसे शर्तिया हाथों-हाथ लेंगे।
अन्तरराष्ट्रीय
स्वास्थ्य
राष्ट्रीय
अपराध
खेल
बिज़नेस
फोटो
Video
Copyright @ 2019.